Category: आधुनिक भारत

उन्नीसवीं शताब्दी में राष्ट्रीय चेतना का उद्भव और विकास

इसको पढ़ने के बाद आपः यह जान पाएँगे कि औपनिवेशि शासाने भारतीय जनता के विभिन्न वर्गों को किस प्रकार प्रभावित […]...

साम्राज्यवाद तथा उपनिवेशवाद : सैद्धान्तिक परिप्रेक्ष्य

इसमें साम्राज्यवाद तथा उपनिवेशवाद के स्वरूप पर विस्तृत चर्चा प्रस्तुत की गयी है। साथ ही यह प्रयत्न किया गया है […]...

वर्नाकुलर प्रेस (भारतीय भाषा समाचार पत्र) के बारे में संक्षिप्त परिचय : भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान वर्नाकुलर प्रेस द्वारा अनुभव की जाने वाली समस्याओं और इसके दमन के प्रयास

प्रश्न: भले ही अंग्रेजों ने प्रत्येक संभाव्य अवसर पर इसके दमन का प्रयत्न किया, फिर भी वर्नाकुलर प्रेस (भारतीय भाषा […]...

भारत में राजनीतिक शक्ति के रूप में ईस्ट इंडिया कंपनी (EIC) के उदय की संक्षिप्त पृष्ठभूमि

प्रश्न: एक राजनैतिक शक्ति के रूप में ईस्ट इंडिया कंपनी काफी लंबे समय से मृत थी, 1858 के अधिनियम ने […]...

भारत के बेहतर भविष्य हेतु महात्मा गांधी और नेहरू की कुछ समानताऐं

प्रश्न: जवाहरलाल नेहरु और महात्मा गाँधी के निकट सहयोगी होने के बावजूद, दोनों के बीच राज्य की भूमिका और इसके […]...

अंग्रेजों द्वारा सांस्कृतिक और शैक्षिक सुधारों को अपनाए जाने के उद्देश्यों पर संक्षिप्त चर्चा

प्रश्न: भारत में अंग्रेज न केवल क्षेत्रीय विजय और राजस्व पर नियंत्रण चाहते थे; अपितु वे यह भी मानते थे […]...

आधुनिक भारत के इतिहास में डॉ. अम्बेडकर के प्रमुख योगदान

प्रश्न: डॉ. बी. आर. अम्बेडकर का मानना था कि दीर्घस्थायी असमानताएं राष्ट्र और लोगों के आर्थिक एवं सामाजिक कल्याण के […]...

भाषायी पुनर्गठन : स्वतंत्रता-प्राप्ति से पूर्व भारत में भाषायी पुनर्गठन की अवधारणा के विकास के इतिहास का संक्षिप्त विवरण

प्रश्न: यद्यपि भाषाई राज्यों का विचार स्वतंत्रता-प्राप्ति से पहले का था, तथापि स्वतंत्रता-प्राप्ति के पश्चात भी इस विचार को कार्यान्वित करने […]...