Category: अंतरराष्ट्रीय संबंध

CAASTA Act का उल्लेख : भारतीय हितों पर प्रतिबंधों के संभावित प्रभावों का विवरण

प्रश्न: चर्चा कीजिए कि अमेरिका द्वारा अपने विरोधियों पर लगाए जाने वाले प्रतिबंध भारत को किस प्रकार प्रभावित करते हैं। […]...

अफ्रीका में चीन का आर्थिक प्रभुत्व : भारत द्वारा अफ्रीका के साथ संलग्नता

प्रश्न: इस तथ्य को देखते हुए कि भारत, चीन के वित्तीय प्रभुत्व की बराबरी नहीं कर सकता, यह देखा जा […]...

भारतीय कूटनीति के लिए हिंद महासागर का महत्व

प्रश्न: भारत हिंद महासागर को मात्र एक जल निकाय के रूप में नहीं, बल्कि निरंतर आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक संवाद […]...

समुद्री सुरक्षा के लिए बहुपक्षीय और क्षेत्रीय सहयोग के महत्व : जिबूती आचरण संहिता और इसमें संशोधन की आवश्यकता का वर्णन

प्रश्न: समुद्री सुरक्षा प्रक्षेत्र (डोमेन) गैर-पारंपरिक खतरों का सामना करने हेतु सामूहिक बहुपक्षीय और क्षेत्रीय सहयोग की मांग करता है। पश्चिमी […]...

भारत-अमेरिका संबंध : दोनों देशों के मध्य असहमति वाले क्षेत्रों का उल्लेख

प्रश्न: भारत-अमेरिका संबंधों में प्रगति समान रूप से महत्वपूर्ण मुद्दों पर उल्लेखनीय असहमति के साथ हुई है। हाल के घटनाक्रमों […]...

भारत-इज़राइल के सौहार्द्रपूर्ण संबंधों का संक्षिप्त वर्णन

प्रश्न: सौहार्दपूर्ण संबंधो के बावजूद, भारतीय और इजरायली राष्ट्रीय सुरक्षा परिस्थितियो के मध्य संरचनात्मक अंतर, उनके वैश्विक दृष्टिकोण और स्पष्ट रूप […]...

IBSA और BRICS : भारत के लिए प्रासंगिकता

प्रश्न: IBSA और BRICS दोनों भारत के बहुपक्षीय संरेखण (मल्टी एलाइन्मेट) की तलाश के उदाहरण है, हालाँकि उनके अभिविन्यास में मौलिक […]...

‘रणनीतिक स्वायत्तता’ और इसके महत्व : गुट निरपेक्ष आंदोलन (NAM) एवम भारत की समकालीन विदेश नीति

प्रश्न: रणनीतिक स्वायत्तता क्या है ? हाल के घटनाक्रमों के संदर्भ में भारत की समकालीन विदेश नीति में ऐसी नीति […]...

20वीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में चीन-सोवियत दरार के लिए उत्तरदायी कारणों पर चर्चा

प्रश्न: 20वीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में चीन-सोवियत दरार के पीछे उत्तरदायी कारणों को सूचीबद्ध करते हुए, शीत युद्ध पर इसके […]...

भारत की कनेक्ट सेंट्रल एशिया नीति की संक्षिप्त व्याख्या : भारत की कनेक्ट सेंट्रल एशिया नीति की संक्षिप्त व्याख्या

प्रश्न: भारत की कनेक्ट सेंट्रल एशिया नीति के उद्दश्यों को प्राप्त करने में हुई प्रगति और बाधाओं की चर्चा कीजिए। […]...